sponsor banner
sponsor
ads banner
sponsor banner
sponsor
ads banner
घरेलू खिलाड़ीवी प्राणीत बने भारत के 82वें शतरंज ग्रैंडमास्टर

वी प्राणीत बने भारत के 82वें शतरंज ग्रैंडमास्टर

वी प्राणीत भारत के 82वें और  तेलंगाना के छठे  ग्रैंडमास्टर बन गए है , जब उन्होंने Baku ओपन 2023
के फाइनल राउंड में अमेरिका के ग्रैंडमास्टर हाँस नीमन को मात दी थी तब उन्होंने ये टाइटल अर्जित कर
लिया था | शीर्ष वरीयता खिलाड़ी के खिलाफ जीत हासिल करने के बाद प्रणीत की लाइव ELO रेटिंग
2500 को पार कर गई थी और उन्होंने अपना तीसरा GM नॉर्म एक पिछले इवेंट में पहले ही अर्जित
कर लिया था |

 

2022 में हासिल किया था पहला नॉर्म 

15 वर्षीय प्रणीत ने अपना पहला GM नॉर्म मार्च 2022 में अर्जित किया था जहां वो IM भी बने थे इसके बाद उन्होंने जुलाई 2022 में बायल एमटीओ में दूसरा GM नॉर्म हासिल किया और 9 महीने बाद Chessable सनवे फोरमेनेरा ओपन 2023 में अपना आखिरी GM नॉर्म हासिल किया | एक इंटरव्यू में प्रणीत ने कहा “यह मेरे करियर का एक  अविस्मरणीय पल है , हालांकि ये मेरी यात्रा के कुछ बड़े लक्ष्यों का हिस्सा है पर ये एक महत्वपूर्ण उपलब्धि है |

 

प्रणीत ने इंटरव्यू में कई ये बात 

प्रणीत ने कहा “ अभी का लक्ष्य Elo 2500 और फिर Elo 2700 को पार करना है और जाहीर तौर पर अंतिम लक्ष्य विश्व  चैंपियनशिप जीतना है जो मुझे पता है की ये इतना आसान नहीं है लेकिन मैं प्रायसों और और कड़ी मेहनत के मामले में कमी नहीं रखूँगा , एक साल पहले हालांकि मेरी गेम अच्छी थी पर मुझे टाइम प्रेशर की समस्या थी , अब धीरे-धीरे उसमें सुधार हो रहा है | 

 

प्राणीत ने आगे बताया की “2022 में इज़राइल GM को हायर करने से पहले मुझे एनवीएस रामाराजू सर 2021 तक प्रशिक्षित किया गया था और वो गेमों का विश्लेषण करने में मेरी बहुत मदद करते थे | भारत से इतने सारे युवा ग्रैंडमास्टर्स को देखकर अच्छा लगता है और मुझे लगता है इससे भारतीय शतरंज को बड़ी मदद मिलती है , मेरी लिए  अगला बड़ा इवेंट कजाकिस्तान में एशियाई  कॉन्टिनेन्टल चैंपियनशिप है और मैं अच्छा प्रदर्शन करने की उम्मीद कर रहा हूँ  | 

 

ये भी पढ़े:- FIDE वर्ल्ड जूनियर U20 चैंपियनशिप के लिए रजिस्ट्रेशन शुरू

Darshna Khudania
Darshna Khudaniahttps://thechesskings.com/
मैं शतरंज की प्रशंसक, शतरंज की खिलाड़ी और शतरंज की कहानियों की एक श्रृंखला की लेखक हूं। मैं लगभग 12 वर्षों से शतरंज खेल रही हूं और इसकी चुनौती, जटिलता और सुंदरता के लिए खेल के प्रति आकर्षित थी। मुझे यह एक पेचीदा खेल लगता है जिसके जीवन में विभिन्न अनुप्रयोग हैं। इसने मुझे एक व्यक्ति के रूप में विकसित होने में मदद की है और यह सीखा है कि कैसे अच्छे निर्णय लेने हैं जो मेरे जीवन के पाठ्यक्रम को बदल सकते हैं।
चेस्स न्यूज़ इन हिंदी

सबसे अधिक लोकप्रिय